Friday, July 18, 2014

सदियों से बिछुड़ी रूहें हम, जाने आज ये क्यूँ उदास हैं

...

सदियों से बिछुड़ी रूहें हम, जाने आज ये क्यूँ उदास हैं,
तन्हा सी ढलती उम्र में.......मिलने की अब क्यूँ आस है ।

सागर सा रिश्ता था कभी, नदिया सा फिर क्यूँ बंट गया,
कोई ज़ख्म भी था मिला नहीं......क्यूँ दर्द का अहसास है ।

मेरा हमसफ़र अब संग मेरे, जाने फिर भी क्यूँ परेशान हूँ ,
शायद है टुकड़ा दिल का इक, कोई अब भी उसके पास है ।

----------------------------------हर्ष महाजन