Monday, October 13, 2014

कितने फसादों से भरा.....किस्सा कह देते हो 'हर्ष'

...

कितने फसादों से भरा.....किस्सा कह देते हो 'हर्ष',
लिखने को मुझसे जियादा कमज़र्फ़ यहाँ कोई नहीं |

___________________हर्ष महाजन