Saturday, June 1, 2013

ये कैसी नेमत है खुदा की उसमें जवानी संग नशा भी

.....

ये कैसी नेमत है खुदा की उसमें जवानी संग नशा भी ,
निगाहों से करती हैं लहू-लुहान नहीं खंज़र का पता भी |

________________________हर्ष महाजन