Saturday, October 5, 2013

तसल्ली अब कर लेता हूँ तुझे यूँ उदास देखकर


...

तसल्ली अब कर लेता हूँ तुझे यूँ उदास देखकर,
देख लेती हो मेरे ज़ख्म जिस्मी लिबास देखकर| 

__________________हर्ष महाजन