Thursday, March 13, 2014

उनका हर जुनून मेरे लिए कहर का सबब है

...
 
उनका हर जुनून मेरे लिए कहर का सबब है,
अबकि उनका प्यार मेरी हस्ती ही बदल गया ।
किस तरह मिटाऊँ अब हाथ की नयी लकीरों को ,
मेरी ज़िंदगी में पांब रखते ही सब खलल गया ।

–--–---–------हर्ष महांजन