Saturday, November 17, 2012

उसने कुछ इस तरह मेरे आशियाने पे सेंध लगाई है

...

उसने कुछ इस तरह मेरे आशियाने पे सेंध लगाई है ,
ज्यूँ छत पे बरसाती पानी के निकास पर गेंद लगाई है |
कौन रोक पायेगा दो दिलों के मिलन को इस बंदिश से,
खुदा ने भी कुछ लकीरों से हाथों पर इक रेंज लगाई है ||

___________________हर्ष महाजन