Tuesday, November 6, 2012

ज़िंदगी को मैंने कभी भी दामों से नहीं परखा

...

ज़िंदगी को मैंने कभी भी दामों से नहीं परखा
ज़िन्दगी जुल्फ के साए में बीत जाए तो क्या |
उसने मेरी आँखों को हमेशां समंदर ही दिए हैं,
दे दे के दर्द वो मेरा भरोसा जीत जाए तो क्या |


_________________हर्ष महाजन