Sunday, March 24, 2013

आज आँखों में अश्क बन के तु आया भी बहुत

...

आज आँखों में अश्क बन के तु आया भी बहुत, 
याद   बन   तूने  ख्यालों  में  रुलाया भी बहुत |

आज मुझको तो जुदाई के सिवा कुछ न मिला ,
जो किए तूने सितम  उसने सताया भी बहुत |

अब तलक आँखों में अश्कों को उभरने न दिया,
चेहरा हाथों में तेरे रख के दिखाया भी बहुत |

ज़िंदगी मेरी शुरू तुझसे थी तुझपे थी ख़तम,
नाम मिटटी पे तिरा लिख के मिटाया भी बहुत |

तू समझता भी नहीं अब तू न समझेगा कभी,
इश्क था पाक तुझसे, मैंने छुपाया भी बहुत |


_______________हर्ष महाजन

बहर
2122          2122        2122       212