Sunday, March 24, 2013

किस तरह नजर अंदाज़ करूँ मैं इन इश्तहारों को

...

किस तरह नजर अंदाज़ करूँ मैं इन इश्तहारों को
खुदा ने खुद दिए हैं रंग इन बे-शुमार त्योहारों को |
गर लिखा है नसीब में तो ढूंढ लेंगे क़दमों के निशाँ,
लौट कर आऊँगा मिलने अपने विसाल-ए-यारों को |

_____________________हर्ष महाजन