Thursday, April 4, 2013

किस तरह करूँ मैं क़ैद उसे दिल की दीवारों में


...

किस तरह करूँ मैं क़ैद उसे दिल की दीवारों में,
वो पंछी आज़ाद घूमें हैं दिल लिए गुब्बारों में |
हर शख्स बुन रहा है इक जाल उसे मनाने को,
कब पहूँचेगी मेरी आवाज़ इन लम्बी कतारों में | 

________________हर्ष महाजन