Saturday, October 5, 2013

किस तरह रोकूँ आज मैं मरहला उसके शबाब


...

किस तरह रोकूँ आज मैं मरहला उसके शबाब का, 
कह दो उसे ज़रा प्यार का इज्र्हार कर लिया जाए |

________________हर्ष महाजन