Thursday, July 26, 2012

रगों में खून की रफ़्तार मुझे इत्लाह देती है

..

रगों में खून की रफ़्तार मुझे इत्लाह देती है
मेरे गुज़रे पलों से इक नया पैगाम आया है |

मेरी रिसती हुई यादों से आँखें झूमती हैं क्यूँ
मेरी नस-नस में उनका यूँ लगे सलाम आया है |

________________हर्ष महाजन