Thursday, November 13, 2014

यादों में उनकी दिन इस तरह ढलते रहे


...

यादों में उनकी दिन इस तरह ढलते रहे,
आरजुओं के शैतान......दिल में पलते रहे |

मुश्किल हुआ जाता है उनके बिना जीना,
मगर किसी ओर पर शख्स वो मरते रहे |

किस तरह सीखेगा कोई शायरी का हुनर,
रोज़ अगर हमसफ़र ....यूँ ही बदलते रहे |

कब तलक जी पाऊँगा बनके मुजरिम यहाँ,
अश्क अब बेरुखी पर हर शब् चलते रहे |

अब तो है खुद शिकायत मुझको ज़िन्दगी से,
क्यूँ ये उसूल मेरे...........मुझको छलते रहे |

_____________हर्ष महाजन


...

YaadoN meiN unki din is tarah dhalte rahe,
AarzuoN ke shaitaan dil meiN palte rahe.

Mushquil hua jaata hai unke bina jeena,
magar kisi our par shaks wo marte rahe.

Kis tarah seekhega koii shayri ka hunar,
Roj agar hamsafar yuN hi badalte rahe.

Kab talak Jee paooNga banke muzrim yahaN,
Ashq ab be-rukhi par har shab chalte rahe.

Ab to hai khud shikayat mujhko zindagii se,
kyuN ye usool mere mujhko chhalte rahe.


_________Harash Mahajan