Friday, June 12, 2015

मुब्तिला इश्क में वो एहसास-ए-अदब भूल गए

...

अपनी मंजिल के लिए होश-ओ-खबर खो के चले,
बा-वस्फे शौक़ दुश्मनी.........वो मगर बो के चले | 

मुब्तिला इश्क में वो....एहसास-ए-अदब भूल गए,
बंद आखों से अपनी....शाम-ओ-सहर खो के चले |


हमारा जौक-ए-सितम अब...फलक को छूने लगा,
बिखर तो हम भी गए पर......वो मगर रो के चले | 


ये इश्क शोला हुआ......शिद्दत-ए-ख़ुलूस टूट गया,
ये साँसे चलती रहीं हाथ...........मगर धो के चले |


छुपे हैं घाव हज़ारों............अभी पर ज़िंदा हैं हम,
जहाँ को छोड़ कर हम........खूब मगर सो के चले |



हर्ष महाजन



.

मुब्तिला = मसरूफ

बा-वस्फे शौक़ = इच्छा के बावजूद

एहसास-ए-अदब = शिष्टाचार का अनुभव

जौक-ए-सितम = अत्याचार सहने का शौक़

शिद्दत-ए-ख़ुलूस = सच्ची दोस्ती, मैत्री
.