Wednesday, June 3, 2015

क्यूँ है काबिज़ वो ज़हन में कहीं बन के इक ख्याल

...

क्यूँ है काबिज़ वो ज़हन में कहीं बन के इक ख्याल,
वो तो गुजरा हुआ कल था कहीं जुल्फों का खुमार |
हम तो कायल थे लबों के पिए थे जाम-ओ-जमाल,
सागर-ए-जाम आज बदला है बना जाम-ए-सिफाल | 

_____________हर्ष महाजन




जाम-ए-सिफाल = clay cup