Monday, August 12, 2013

गद्दारों के देश में अब, खुद ही सब अवतार

...

गद्दारों के देश में अब, खुद ही सब अवतार,
फौजी दस्ते लूटकर ,जहाँ बने सरकार |
जहाँ बने सरकार , साजिशें रोज़ बनायें,
भोली सी आवाम , सहे आतंकी सजाएं |
कहे ‘हर्ष’ दो पलट, देश के सभी खुद्दारों,
उठाओ जंगी तोप, दाग बोल के गद्दारों |

______________हर्ष महाजन