Wednesday, August 14, 2013

उनकी हसरतों को खूब समझा किये हैं हम

...

उनकी हसरतों को खूब समझा किये हैं हम,
वो नादाँ हैं जो दिल को बेज़ार किये बैठें है |

ये दिल है दरियाओं की अब कमी नहीं इसमें ,
आओ तुम ज़रा तैरो तो इंतज़ार किये बैठे हैं |

_______________हर्ष महाजन