Tuesday, August 20, 2013

खुद को कर देना इतिहास के पन्नों पर कुछ यूँ चस्पा

...

खुद को कर देना इतिहास के पन्नों पर कुछ यूँ चस्पा,
कभी दुबारा सर ज़मीं छू ली तो तुम्हे शरीक कर पाऊँ |
बहुत कर लिए हैं गुनाह और उनका असर भी देखा है,
अब आऊँगा दौर-ए-वफ़ा लेकर कि तुम्हे करीब कर पाऊँ |

________________________हर्ष महाजन