Thursday, December 5, 2013

छोड़ कर मुझको मेरे अश्क़ किधर जायेंगे

....

छोड़ कर मुझको मेरे अश्क़ किधर जायेंगे,
मेरे अहसास बन अखियों से उतर जायेंगे ।
कब तलक दर्द से घायल मेरी पलकें होंगी,
फिर वो बन दरिया शहरों में बिखर जायेंगे ।

____________हर्ष महाजन