Wednesday, September 4, 2013

चैन-ओ-सकूं जब भी दिल को सहलाने लगे


...

चैन-ओ-सकूं जब भी दिल को सहलाने लगे,
फकत वही ख्वाब अब बिस्तर कहलाने लगे |

_______________हर्ष महाजन