Thursday, September 26, 2013

आओ वक़्त को जी के देखें दर्द की चादर सी के देखें


...

आओ वक़्त को जी के देखें दर्द की चादर सी के देखें,
छलकती है आँख से मय जो होंटों से अब पी के देखें |

ज़ख्म कुछ संग छोड़ गए हैं कुछ को हम भी भूल गए,
कुछ जो दिल नासूर किये हैं आओ उन संग जी के देखें | 

कश्ती दिल की बीच समंदर गम भंवर बन खींच रहे हैं,
डोर वफ़ा की माझी संग अब कहे तो नफरत सी के देखें |


________हर्ष महाजन