Thursday, September 19, 2013

दोराहे पर छोड़ा उसने मगर तपिश अक्सर जान जाती


....

दोराहे पर छोड़ा उसने मगर तपिश अक्सर जान जाती है, 
अपनी यादों के टुकडे कुछ फिर मेरे दिल में टांग जाती है |

_________________________हर्ष महाजन