Wednesday, September 4, 2013

कुछ हैं मोती जो बिखरने के लिए होते यहाँ

....

कुछ हैं मोती जो बिखरने के लिए होते यहाँ,
उनके दिल में नहीं होता कोई मजबूत जहाँ |
कोई धागा कोई साथी कोई भी दोस्त यहाँ ,
कौन परखेगा खुदा भी तो बता दो है कहाँ |

_______________हर्ष महाजन