Sunday, June 8, 2014

थी उसकी रंजिशें तो हमने यार छोड़ दिया

...

थी उसकी रंजिशें तो.....हमने यार छोड़ दिया,
गरज भी उसकी मगर हमने प्यार छोड़ दिया |

गज़ब की थीं नसीहतें.....जो तनहा कर गयीं,
जिसे था छोड़ा उसने.......ऐतबार छोड़ दिया |

गुमाँ था ये की शख्स, वो खुदा से कम न था,
अना भी इस कदर, खुदा ने द्वार छोड़ दिया |

न जाने कैसे ये गुनाह........हमने कर लिया,
हौले-हौले तनहा कर........बीमार छोड़ दिया |

_____________हर्ष महाजन