Thursday, September 8, 2011

इंतज़ार है मुझे शमशान में

क्यूँ तब्दील किया तूने मुझे लाश में
तेरा भी इंतज़ार है मुझे शमशान में |
मुझे करवट लेना भी गंवारा नहीं है
ज़रा भी खोट नहीं है मेरे ईमान में ||


हर्ष महाजन