Wednesday, September 14, 2011

क्षणिका

फूँक फूँक कर 
पाँव रखना भी 
नाकाम हो गया |
मैं  फूंकता ही रहा 
वह बहुत दूर निकल गया |

हर्ष महाजन