Tuesday, September 6, 2011

हादसों की वो इबारतें


दिख रहीं चेहरे पे उसके हादसों की वो इबारतें
इक उम्र से दिल में खडीं जो चोटों की इमारतें