Friday, September 28, 2012

जब वो मतलब से बात करते हैं

..

जब वो मतलब से बात करते हैं,
देख आईने में फिर क्यूँ डरते हैं |

रात गुजरे है रोज़ तसव्वुर में ,
दिन भी उनके यूँ ही गुज़रते हैं |

दिल पे काबिज़ माहौल अंधेरों का
गम को पीते हैं और बिखरते हैं |

वक़्त अच्छा नहीं ये शक भी नहीं
अपने संग हैं वो पर कतरते हैं |

इश्के-हस्ती न हम संवार सके,
दिल में आंखों से रोज़ उतरते हैं |

__________हर्ष महाजन