Wednesday, October 24, 2012

रावण आजकल सोसायीटियों में भी पनपने लगे हैं

...

रावण आजकल सोसायीटियों में भी पनपने लगे हैं,
शायद इसीलिए 'राम' जगह-जगह धमकने लगे हैं |
छुप-छुप कर करते हैं वार पर शून्य में बदल जाते हैं
क्यूंकि विभीषण भी अब घर-घर में टपकने लगे हैं |

_____________________हर्ष महाजन |