Sunday, August 24, 2014

क्या कहूँ उनको जो वो गर्म धुंआ करते हैं

...

क्या कहूँ उनको जो वो गर्म धुंआ करते हैं,
आके मंजिल के करीब इश्क रवां करते हैं |
जब कभी उठे है आँखों में समंदर सा भंवर,
सूखे अधरों पे खिजाँओं को फिज़ां करते हैं |

___________हर्ष महाजन