Tuesday, May 8, 2012

लब पे शिकवे और शिकायत तो कभी थी ही नहीं मुझे ऐ 'हर्ष'

..

लब पे शिकवे और शिकायत तो कभी थी ही नहीं मुझे ऐ 'हर्ष'
खोल कर अपनी जुबां दोस्तों की अहमियत घटा न सकूंगा मैं ।

_________________________हर्ष महाजन ।