Monday, May 14, 2012

अब वो कहते हैं कि अबकी ये ग़ज़ल मेरी नहीं

..

अब वो कहते हैं कि अबकी ये ग़ज़ल मेरी नहीं
इतना जलते हैं कहें आँखों में मचल मेरी नहीं ।

जब भी सीने में कभी भड़के है शोले गम के
मुझको  पागल कहें आँहों में उगल मेरी नहीं ।


___________________हर्ष महाजन ।